कंप्यूटर की कितनी पीढ़ियाँ होती है ?

आज हम लोग जानने वाले Generation Of Computer In Hindi में , जैसा की आप लोगो को पता है की आज के वक़्त में Computer कितने ज्यादा Digital हो चूका है |

अब हमारा सारा काम लगभग Computer पे ही निर्भर हो गया है क्योंकि जो काम करने के लिए हमें काफी वक़्त लगता था और बहुत बहुत दूर भी जाना होता था , वो सब काम अब हमलोग सिर्फ कंप्यूटर की मदद से अब घर बैठे क्र सकते है |

हम सब के पास आजकल कंप्यूटर या मोबाइल जरूर है आज के वक़्त में लेकिन क्या आपको पता है की जो कंप्यूटर अभी हम इस्तेमाल करते है उसमे और अभी से 70  साल पहले जो कंप्यूटर इस्तेमाल किया होता था उसमे कितना Different है |

हमारे इस Digital World में बहुत ही ज्यादा तेजी से कंप्यूटर का विकास हुआ है और बहुत ही ज्यादा बदलाव अब देखने को मिलता है , लेकिन क्या आप जानना चाहेंगे की इस कंप्यूटर की क्रांति कब और कैसे और कहाँ से शुरू हुआ |

क्या आप जानना चाहेंगे की अभी के और पहले के कंप्यूटर के Hardware में कितना बदलाव आया है , पहले के कंप्यूटर के और अब के कंप्यूटर के Software में कितना बदलाव आया है |

पहले के कंप्यूटर का आकार  कितना था ,क्या आप जानना चाहेंगे की  पहले एक कंप्यूटर में कितना खर्च आता था , एक कंप्यूटर पहले कितना डाटा स्टोर कर सकता था  |

क्या आपको पता है की अभी जो हम कंप्यूटर में Technology इस्तेमाल करते है वो 4rth ( चौथी पीढ़ी ) तथा 5fth  ( पाँचवी पीढ़ी ) का कंप्यूटर है |

>>>>>अभी  तक कंप्यूटर के पाँच  Generation आ चूके है | तो चलिए जानते है पुरे  5

Generation Of Computer In Hindi | कंप्यूटर की पीढ़ी  


First Generation Of Computer In Hindi कम्प्यूटर की पहली पीढ़ी

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी ( 1940 से 1956 तक  ) चली | इस पीढ़ी में Vaccum Tubes का इस्तेमाल किया गया था कंप्यूटर को बनाने के लिए | यह एक तरह का Glass का डिवाइस था जो की Electronic Source के लिए इस्तेमाल में लाया गया था |
Vaccum Tubes सामान्यता कोई भी Calculations के लिए तथा कुछ भी फाइल Storage करने के लिए और Control के लिए इस्तेमाल किया गया था   |

इसी सदी में Computer Generation  में क्रांति आयी और कंप्यूटर की एक नयी  दुनिया का निर्माण हुआ |

इसी सदी में बनाया गया जिसका नाम था ( ENIAC )

प्रथम General Purpose Programmable Electronic Computer  जो की सामान्य काम के लिए बनाया गया था जो की इलेक्ट्रॉनिक के द्वारा चल सकता था और इसमें हम अपना Command दे सकते थे और इससे थोड़े बड़े Calculation भी करवा सकते थे जिसका नाम ENIAC ( Electronic Numerical Integrater  And Computer ) था और इसे J. Presper Eckert और John V Mauchly के द्वारा Pennsylvalnia के University में बनाया गया था |

ENIAC 30 से 50 फ़ीट लम्बा था और इसका वज़न 30 टन था जो की आज के कंप्यूटर से बहुत ही ज्यादा अधिक भारी था | इसमें Total 18000 Vaccum Tubes और 70000 Registers और 10000 Capacitors और लगे थे और इसे चलाने के लिए 150000 Watts बिजली की आव्यशकता होती थी | इसलिए पहले  के वक़्त में एक कंप्यूटर लेना भी बहुत महंगा था |

( Registers एक तरह का मेमोरी होता है और जब हम कुछ कंप्यूटर में calculate करते है तो वो इस रजिस्टर में जाके Store होता है और फिर Process करके हमें इसी रजिस्टर के द्वारा Output मिल जाता है | )

Generation Of Computer in Hindi

*  Features of First Generation Of Computer In Hindi – प्रथम पीढ़ी की मुख्य विशेषता

  • Vaccum Tubes का इस्तेमाल किया गया
  • Magnetic Core मेमोरी का इस्तेमाल किया गया
                  

 *  Draw Backs Of 1st Generation Computer – प्रथम पीढ़ी की कमियाँ 

  • इसका वजन बहुत ज्यादा था
  • Size में भी बहुत बड़ा था |
  • इसे एक जगह से दुसरे जगह नहीं ले जाया सकता था
  • बहुत ज्यादा बिजली का इस्तेमाल होता था |  
  • बहुत जल्दी गरम हो जाता था
  • इस मशीन को ठंडा रखने के लिए A.C का उपयोग किया जाता था
  • केवल Machine Language को ही Support करता था
  • Accuracy 100% नहीं था ( गलत उत्तर मिलता था )
  • Processing बहुत ही ज्यादा Slow था

  *   Example of First Generation Computer

ENIAC  – Electronic Numerator Integrator And Computer

EDVAC –  Electronic Discrete Variable Automatic Computer

UNIVAC – Universal Automatic Computer

 

Second Generation Of Computer In HIndi कंप्यूटर की द्वितीय पीढ़ी

Computer का Second Generation  ( 1956 से 1964 तक ) चला | इस Generation  में Vaccum Tubes के जगह Transistors ने ले लिया था |

Transistors एक तरह का छोटा सा डिवाइस था जो की Signal Generate करता  था जो की Bell Labs में बनाया गया था | Transistors Digital Circuit का घटक बन चूका था और ये कंप्यूटर इतिहास में बहुत बड़ी उपलब्धि थी |

Transistors ने First Generation के Vacuum Tubes की जगह ले ली थी | Transistors भी वो सब काम कर सकता था जो की Vaccum Tubes द्वारा प्रथम पीढ़ी में किया जाता था | बस पहले Electrons Vaccum Tube के द्वारा गुजरते थे और अब Solid Materials के through .

Transistors छोटे छोटे Semiconductor से बना हुआ होता था जो की Circuit के द्वारा आने वाले Electricity यानी के बिजली के बहाव को Control करता था |

Transistors के इस्तेमाल से हमारा कंप्यूटर First Generation Computer की तुलना में काफी छोटा हो गया था और Speed  काफी तेज भी हो गया था |

Second Generation Computer में CPU ( Central Processing Unit ) , Memory , तथा Input और Output जैसे Words का निर्माण हो चूका था |

इस Generation में काफी High Level Language ( इंसान को समझने वाला भाषा ) का निर्माण हो चूका था |

 जैसे की > FORTRAN , COBOL, ALGO

Generation Of Computer in Hindi

*  Features of Second  Generation Of Computer In Hindi –  द्वितीय पीढ़ी की मुख्य विशेषता  

  • Transistors का इस्तेमाल किया गया था
  • कंप्यूटर का Size पहले की तुलना में छोटा हो गया था
  • कंप्यूटर पहले से ज्यादा Reliable हो गया था
  • इसकी स्पीड काफी अच्छी हो गयी थी
  • इस पीढ़ी की कंप्यूटर को कम बिजली की जरूरत होती थी
  • पहले पीढ़ी की तुलना में इस पीढ़ी के कंप्यूटर सस्ते हुए
  • कम्प्यूटर का गरम होना थोड़ा सही हुआ
  • इसका Manufacturing Cost भी काम हो गया था
  • Processing Speed पहले के कंप्यूटर की तुलना में तेज हुआ

*  Draw Backs Of Second Generation Computer – द्वितीय पीढ़ी की कमियाँ

  • इस पीढ़ी में भी कंप्यूटर को Maintenance की जरूरत होती थी |
  • इस पीढ़ी के कंप्यूटर को भी A.C की जरूरत होती थी
  • इसमें भी Low Language जैसे की Machine और Assembly Language का इस्तेमाल हुआ

  Example of Second Generation Computer

  • PDP – 8
  • IBM  – 1400 Series
  • IBM – 1620
  • IBM – 7090

 

Third Generation Of Computer In Hindi कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी

Computer का Third Generation ( 1964 से 1971 तक ) चला | इस Generation में Transistors की जगह Silicon Chips या Semiconductors ने ले लिया |

Silicon – सिलिकॉन एक पदार्थ है जो की IC Chips , Silicon Diode , Transistors और अन्य Electonics Circuit बनाने में काम लिया जाता है | Silicon कुछ Element से मिल के भी बनता है जैसे की Phosphorus , Boron 

इसके बदलाव के बाद Computers के स्पीड में भी बहुत ज्यादा तेजी आयी और Computer  काफी Reliable हो गया चलाने में | उसमे साधारणतय Circuit इस्तेमाल किया जा रहा था |

IC ( Integrated Circuits ) के  कंप्यूटर की दुनिया में कदम रखते ही एक बहुत बड़ा Milestone पूरा हो गया था कंप्यूटर के इतिहास में |

Integrated Circuits  को हम Chips के नाम से भी जानते है |

IC Technology को हम लोग Micro – Electronics के नाम से भी जानते है क्योंकि बहुत ज्यादा मात्रा में बहुत सारे  Circuit को हम एक ही IC Chip में Integrate कर सकते है |

Third Generation के Computer में पहले के Generation के कंप्यूटर की तुलना में बहुत अधिक बदलाव आया और एक कदम और हम आगे बढे है वो भी Integrated Circuits Chip के माध्यम  से |

BASIC  ( Beginners All Purpose Symbolic Instruction Code )  जैसे High Level Language को भी इसी Third Generation में Develop किया गया था |

Solid State Circuit , Storage Devices और Input तथा Output को इस Generation में Improve किया गया | पहले की तुलना में अब Calculations को कुछ Seconds में कर पाना संभव हो सका |

  • इसी Third Generation of Computer को ही Mini – Computer देने का श्रेय जाता है |
    Generation Of Computer in Hindi

 Features Of Third  Generation Of Computer In Hindi –  तृतीय पीढ़ी की मुख्य विशेषता  

  • Integrated Circuit  का इस्तेमाल किया गया
  • Speed पहले  की तुलना में बहुत अधिक बढ़ गया  
  • पहले दोनों पीढ़ी की तुलना में इस पीढ़ी  के कंप्यूटर का आकार कम हुआ
  • इस पीढ़ी में High- Level Language का इस्तेमाल हुआ
  • पहले से कम बिजली खपत हुई
  • इस पीढ़ी के कंप्यूटर पहले के पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में सस्ता हुआ |
  • Mini- Computers का Develop  हुआ |
  • Accuracy सही हुआ |

 *   Draw Backs Of Third Generation Computer – तृतीय पीढ़ी की कमियाँ

  • इस पीढ़ी में भी AC की आव्यशकता थी |
  • तापमान कम उत्पन्न हुआ लेकिन ख़त्म नहीं हुआ |

 *  Example of Third Generation Computer

  • NCR-395
  • B – 6500
  • IBM – 360 / 370

 

Fourth Generation Of Computer In Hindi कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी

Computer का Fourth Generation ( 1971 – अब तक ) चल रहा है , अभी जो कंप्यूटर हम इस्तेमाल कर रहे है वो Fourth Generation का कंप्यूटर है , इस पीढ़ी में IC ( Integrated Chips ) की जगह Large Scale Integration ( LSI ) ने ले लिया | और कुछ वक़्त बाद इसे Upgrade करके ( LSI ) की जगह Very Large Scale Integration ( VLSI ) ने ले लिया |

LSI Circuits भी एक Silicon Chips से ही बनाया गया था  जिसे हम Micro – Processor के नाम से भी जानते है |

एक Micro – Processor के अंदर जरूरी सभी Types के Circuits एक ही Chip में पाए जाते है जो की मदद करता है Arithmetic , Logical तथा Control Function को पूरा करने में |

Micro – Processor की वजह से अब हम ज्यादा से ज्यादा डाटा को एक वक़्त में Process कर सकते है यानी के ज्यादा Calculations एक ही वक़्त में कर सकते है | और इसी Micro – Processor मदद  से अब हम पुरे CPU को केवल एक Chip में रख सकते है |

इस तरह के कम्प्यूटर्स को हम Micro – Computers कहते है |  

आप अनुमान लगा सकते है की इस पीढ़ी में कंप्यूटर की दुनिया में कितना विकास हुआ है ,

Ex प्रथम पीढ़ी में एक कंप्यूटर को एक बड़े से कमरे में रखा जाता था और अब एक कंप्यूटर को आप अपने हाथो पर रख सकते है |

Intel 4004 Chip , जो की 1971 में बनाया गया था , इसकी मदद से सभी Input , Output , Memory  तथा Processing सब केवल एक Chip में संभव हो सका |

INPUT – जो हम कंप्यूटर में Input करते है ,जैसे की कुछ स्टोर करना या कोई keyboard से बटन दबाना   Input कहलाता है |

OUTPUT – जो हमें कंप्यूटर से प्राप्त होता है जैसे की कंप्यूटर स्क्रीन में कुछ दिखना वो Output  होता है और कोई प्रिंट आउट निकलना भी Output कहलाता है |

MEMORY – जैसा हमारे मोबाइल में Memory Card होता है वैसे ही कंप्यूटर में कुछ रखने / Save करने के लिए उसका Memory  होता है |

Processing – जब हम कंप्यूटर में कोई काम करते है तो उसमे कुछः Input देते है उसके बाद कंप्यूटर उसे Process करता है फिर हमें Output  देता है |

Ex –  अगर हमने Input 2 किया है और + फिर 2 Input करते है तो कंप्यूटर 2 + 2  का Input लेके उसे प्रोसेस करता है देखता है की मुझे जोड़ना है या घटाना है उसके बाद उसका anwser 4 देता है वही Process कहलाता है |

Fourth Generation की सबसे बड़ी उपलब्धि में Micro – Electronic का Development तथा Computer Technology का पूरा बदलाव जैसे की Multiprocessing , Multiprogramming , TIme Sharing , Operating Speed , Virtual Storage जैसे कारनामे हुए है |

   Multiprocessing – एक वक़्त में ज्यादा Process करना Speed साथ

   Multiprogramming – एक ही वक़्त  में कई सारे काम एक साथ करना

   Operating Speed –  Operating System Software का फ़ास्ट होना

Fourth Generation के Computer को हम Personal Computer कह सकते है जिसे हम Table Computer और Laptop के नाम से जानते है , यह सभी 4rth Generation के Computer है |

Generation Of Computer in Hindi

*  Features Of Forth  Generation Of Computer In Hindi –  चतुर्थ पीढ़ी की मुख्य विशेषता

  • ( LSI ) Large Scale Integration तथा ( VLSI ) Very Large Scale Integration जैसे Technology का इस्तेमाल हुआ |
  • इस पीढ़ी के कंप्यूटर Portable हो चुके थे जिसे एक जगह से दुसरे जगह आसानी ले जाया जा सकता था |
  • इस पीढ़ी के कंप्यूटर सस्ते हो गए  थे
  • इसका आकार तीसरे पीढ़ी के कंप्यूटर की तुलना में बहुत अधिक छोटा हो गया था
  • इस  पीढ़ी में कंप्यूटर में Internet का इस्तेमाल किया गया
  • Speed बहुत तेज हो गया
  • Network भी बहुत Fast हो गया
  • इसमें कोई भी AC की जरूरत नहीं रही
  • सबसे ज्यादा कंप्यूटर इस पीढ़ी में इस्तेमाल होने लगा

 *   Draw Backs Of Fourth Generation Computer – चतुर्थ पीढ़ी की कमियाँ

  • इस  पीढ़ी में अब लगभग कोई कमी नहीं बचा  है

*  Example Of Forth Generation Computer  

  • PDP – 11
  • STAR – 1000
  • APPLE – II
  • ALTER – 8800

 

Fifth Generation Of Computer In HIndi   कंप्यूटर की पाँचवी पीढ़ी

Computer का Fifth Generation ( अभी का समय ही है ) , मानो की इस Generation के आते ही Computer एक इंसान बन चूका है , जी हां कंप्यूटर आपकी तरह अब सोच सकता है , बोल सकता है, और आपकी सभी बातों को समझ भी सकता है , अगर हम देखे तो आज एक कंप्यूटर हर वो काम कर सकता है जो की खुद एक इंसान भी नहीं कर सकता |

Computer Fifth Generation पूरी तरह Artifilcial Intelligence पर काम करता है और ये हर

दिन हर समय अपने आप को Grow कर रहा है |

Artificial Intelligence – ( इंसानी रोबोट )  इसका मतलब होता है एक ऐसा कंप्यूटर एक ऐसा मशीन जिसके पास एक इंसान से भी ज्यादा इंसान जैसा दिमाग होगा, इंसान से ज्यादा सोच सकेगा , उससे कई लाख गुना ज्यादा काम कर सकेगा |

  वो दिन दूर नहीं जब किसी इंसान को केवल एक चीज़ की जरूरत होगी और वो होगा Artificial Intelligence    द्वारा बनाया गया Device , क्योंकि वो अकेले ही सब काम करने के लिए काफी होगा |

कंप्यूटर के इस पीढ़ी में ULSI ( Ultra Large Scale Integration ) का उपयोग हो रहा है जो की चौथी पीढ़ी से कई गुणा ज्यादा है |

इस पीढ़ी में कंप्यूटर  के सभी High – Level Language को develop  किया गया है , और इस पीढ़ी के कंप्यूटर का Size केवल एक biscuit तक का भी है और एक इंसान के आकार का भी |

इस पीढ़ी के कंप्यूटर के स्पीड की तुलना अभी तक की पीढ़ी  से कई लाख गुणा ज्यादा है और ज्यादा बढ़ रहा है |

कंप्यूटर की इस नयी पीढ़ी के नए Technology के आने से हमारा काम बहुत ही ज्यादा आसान हो चूका है और अभी भी ये Artificial Intelligence आगे ही बढ़ रहा है और ये हमारे दैनिक जीवन में भी उपयोग किया जा रहा है |  

Google Assistant जो की आप लोग अपने मोबाइल में इस्तेमाल करते हो ये Artificial Intelligence का सबसे बड़ा उदहारण है |

Artificial Intelligence ( आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस ) देखा जाये  तो हर जगह है चाहे वो आपके मोबाइल में Google Voice Search हो , Google Map, Dictionary, Image Checker और भी बहुत कुछ |

ये टेक्नोलॉजी कंप्यूटर को ऐसा Power देता है जिससे की वो खुद का Decision  ले सकता है , लेकिन अभी भी ये केवल इंसानो को ही नक़ल करने के क्षमता रखता है उससे ज्यादा अभी खुद का निर्णय नहीं ले सकता |

Generation Of Computer in Hindi

*   Features Of Fifth  Generation Of Computer In Hindi –  पाँचवी पीढ़ी की मुख्य विशेषता

  • Artificial Intelligence जैसे टेक्नोलॉजी का उपयोग
  • Machine Learning  पे Focus किया जा रहा है
  • Gaming  की दुनिया में निरंतर एक बड़ा बदलाव
  • Natural Spoken Language को बढ़ावा दिया जा रहा है जिससे की User के साथ एक इंसान  जैसे Communicate किया जा सके
  • Database के Storage को बढ़ाना
  • Intelligent Interface को Grow करना
  • User Interface  को बढ़ावा देना
  • Image Processing, Voice Search पे काम करना

*   Artificial intelligence के इस पीढ़ी के कुछ Example  : –

> Robotics ( रोबोट )
> Artificial Game
> Neural Networking
> Natural Spoken Language कंप्यूटर द्वारा बोला जाना
> Ultrabook कंप्यूटर
> Chromebook कंप्यूटर


प्रश्न > 1 >  कंप्यूटर क्या है |
उत्तर > इसे पढ़े > कंप्यूटर क्या है ? और इसकी विशेषता
प्रश्न > 2 > कंप्यूटर का इतिहास क्या है
उत्तर > इसे पढ़े > कंप्यूटर का पूरा इतिहास

 

Conclusion ( निष्कर्ष ) – तो दोस्तों आज आप लोगो ने बहुत  ही बढ़िया पोस्ट पढ़ा जो की था Generation Of Computer In Hindi . और हो सकता हो की आप लोग एक कंप्यूटर के छात्र होंगे और इस Computer  Generation के सभी Knowledge को आप लोगो ने आज ले लिया होगा |

मैंने इसमें प्रथम पीढ़ी से लेकर पाँचवी पीढ़ी तक पूरा विस्तार  से बताया है और कुछ – कुछ Points को अलग से भी परिभाषित किया ताकि आप लोगो को अच्छे से समझ आ सके और कोई Doubt  न रहे |

उम्मीद करता हुँ की आप लोगो ये ( Generation Of  Computer In Hindi ) पोस्ट अच्छा लगा होगा और इससे बहुत सी जानकारी  मिली होगी |

इसे अपने दोस्तों के साथ Facebook पे , Whatsapp पे जरूर Share करे और उन सबको भी कंप्यूटर को फ्री सीखने  में मदद करे |

अगर अभी भी आपलोगो का कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे  Comment जरूर करे ,और जरूर  बताये की ये पोस्ट आपको कैसा लगा |

शुक्रिया |


इन्हे भी पढ़े:-


8 thoughts on “कंप्यूटर की कितनी पीढ़ियाँ होती है ?”

Leave a Comment